PRSI Song

जन –जन से सम्पर्क बनाने वाले हम ।
आशाओं की किरण जगाने वाले हम ॥

नगर-नगर ये ग्राम और ये गलियारे
भरने इनमें नवजीवन के उजियारे

हम दुहराते फिर-फिर अपनी यही कसम ।

हमें हटाना घर –घर से अँधियारा है
हमें तोड़नी पाखण्डों की कारा है

सच को कहने वाली चलती रहे कलम ।

कदम मिलाकर नर-नारी सब ओर बढें
ज्ञान और विज्ञान नए सोपान चढ़ें

देना है सन्देश यही हमको हरदम ।……॥